Options
मुख्य विषय पर जाएं | स्क्रीन रीडर का उपयोग स्क्रीन रीडर का उपयोग | पाठ्य का आकार: A- A A+ | कंट्रास्‍ट योजनाएं: Light Dark Brown Blue Black | भाषा: Hindi English

हमारे बारे में

हमारे बारे में

केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड सूचना और प्रसारण मंत्रालय के अंतर्गतएक संस्था है यह संस्था चलचित्र अधिनियम १९५२ के तहत जारी किये गए प्रावधानों के अनुसरण करते हुए फिल्मों के सार्वजनिक प्रदर्शन का नियंत्रण करता है।

केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड द्वारा फिल्मों को प्रमाणित करने के बाद ही भारत में उसका सार्वजनिक प्रदर्शन कर सकतेहै।

बोर्ड में केंद्र सरकार द्वारा नियुक्त अध्यक्ष एवं गैर-सरकारी सदस्यों को शामिल किया गया है।बोर्ड का मुख्यालय मुंबई में स्थित है और इसके नौ क्षेत्रीय कार्यालयहै जो मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, बैंगलूर, तिरुवनंतपुरम,  हैदराबाद,  नई दिल्ली,  कटक और गुवहाटी में स्तिथ है।
क्षेत्रीय कार्यालयों में  सलाहकार पैनलों की सहायता से फिल्मों का परीक्षण करते है। केंद्र सरकार द्वारा समाज के विविदस्तर के व्यक्तियों को  समावेश करते हुए दो वर्ष की कालावधि के लिए इन पैनल सदस्योंका नामांकन करते है। 

चलचित्र अधिनियम, १९५२, चलचित्र (प्रमाणन) नियम, १९८३  तथा ५ (ख) के तहत केन्द्र सरकार द्वारा जारी किए गए मार्गदर्शिका के  अनुसरण करते हुए प्रमाणन की कार्यवाही की जाती है।

फिल्मों को चार वर्गों के अन्तर्गत प्रमाणित करते है:

अनिर्बन्धित सार्वजनिक प्रदर्षन ’अ’- अनिर्बन्धित सार्वजनिक प्रदर्षन
अनिर्बन्धित सार्वजनिक प्रर्दषन के लिए किन्तु 12 वर्षसे कम आयु के बालक/बालिका को माता पिता के मार्गदर्षन के साथ फिल्म देखनेकी चेतावनी के साथ ’अव’- अनिर्बन्धित सार्वजनिक प्रर्दषन के लिए किन्तु 12 वर्षसे कम आयु के बालक/बालिका को माता पिता के मार्गदर्षन के साथ फिल्म देखनेकी चेतावनी के साथ
 
वयस्क दर्षकों के लिए निर्बन्धित ’व’- वयस्क दर्षकों के लिए निर्बन्धित
किसी विषिष्ठ व्यक्तियों के लिए निर्बन्धित ’एस’- किसी विषिष्ठ व्यक्तियों के लिए निर्बन्धित